An Unplanned Night
An Unplanned Night not-as-planned stories
  3
  •  
  0
  •   0 comments
Share

_rishabh_trikha
_rishabh_trikha Community member
Autoplay OFF   •   2 months ago
mujhe hii ptaa he , kaise guj'aaraa he maiNne us raat ko,

An Unplanned Night

मुझे ही पता हे , कैसे गुज़ारा हे मैंने उस रात को, कैसे सम्भाल हे अपने ज़स्बात को, उस आधी अंधेरी रात को, याद किया हे मैंने तुमसे करी हुई हर एक बात को, सोचा था की तुम हमेशा मेरे साथ हो , लेक़िन शायद हम इस ही वजह से बरबाद हो, एक ख़याल था, की ना किसी की गलती की बात हो, सुलझा सकूँ इस सबको ऐसी भी एक रात हो।। अब तो बस, बात हो, जज़्बात हो, मुलाक़ात हो, सुकून भरी रात हो, मैं हूँ , तुम हो और ये खूबसूरत कायनात हो।। किसी ने कहा हे, और मैंने भी सुना हे - की ‘ अगर तुम्हारी कहानी को उस अंजाम तक लाना ना हो मुमक़िन , तो उसे एक हसीन मोड़ पर लाकर छोड़ देना चाहिए। ‘ मुझे नही पता ये कितना सही हे और कितना ग़लत । पर सोचता हूँ एसे कैसे छोड़ दूँ, मेरा और तेरा दोनो का दिल तोड़ दूँ । सोचता हूँ इस सब को वापिस वहाँ मोड़ दूँ , जहाँ मैं था , जहाँ तू थी , बस एक हस्सी , वही सुकूं थी , बातों में ख़ुशी वही तो रूह थी , मैं था , तू थी , क्या ये कहानी सच में नामुमकिन थी ??

अब तो बस, बात हो, जज़्बात हो, मुलाक़ात हो, सुकून भरी रात हो, मैं हूँ , तुम हो और ये खूबसूरत कायनात हो।।

किसी ने कहा हे, और मैंने भी सुना हे - की ‘ अगर तुम्हारी कहानी को उस अंजाम तक लाना ना हो मुमक़िन , तो उसे एक हसीन मोड़ पर लाकर छोड़ देना चाहिए।’ मुझे नही पता ये कितना सही हे और कितना ग़लत ।

पर सोचता हूँ एसे कैसे छोड़ दूँ, मेरा और तेरा दोनो का दिल तोड़ दूँ । सोचता हूँ इस सब को वापिस वहाँ मोड़ दूँ , जहाँ मैं था , जहाँ तू थी , बस एक हस्सी , वही सुकूं थी , बातों में ख़ुशी वही तो रूह थी , मैं था , तू थी , क्या ये कहानी सच में नामुमकिन थी ?? - Rishabh Trikha

Stories We Think You'll Love 💕

Get The App

App Store
COMMENTS (0)
SHOUTOUTS (0)