अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम -Devesh Ojha
 

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम 

ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम 

-Devesh Ojha

 love stories
  0
  •  
  0
  •   0 comments
Share

anon
anon Stories From Unregistered Users
Autoplay OFF   •   6 months ago
मरासिम-: Maraasim

customs, rules, relations

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएँ हम ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएँ हम -Devesh Ojha

Stories We Think You'll Love 💕

Get The App

App Store
COMMENTS (0)
SHOUTOUTS (0)